cartoon  

चाहे मानसून लेट आया है

पर एहसास नया ये लाया है,

कानून में सुधार आया है

देश में अब बदलाव आया है|

लड़के को लड़की न खोजनी

ना लड़की को लड़का,

कोई भी मिल जाये चलेगा बस भिडे प्रेम का टांका |

शायद अब किसी घर में मूंछों वाली भाभी आएँगी,

कन्यायें कन्या को भी अब जीजू जीजू बुलाएंगी|

उन्मुक्त गगन के नीचे केवल अब जोड़े ना रास रचाएंगे,

बदला बदला होगा मंजर लड़के जब लड़का पटायेंगे|

पुलिस के पास भी अब शायद छेड़छाड़ के केसेज बढ़ जायेंगे ,

महिला महिला को छेड़ेगी पुरुष पुरुष से छेड़े जायेंगे |

हर सिक्के के पहलू दो होते कुछ सुधार तो आयेंगे,

ये नए बदलाव देश को जनसँख्या विस्फोट से बचायेंगे…

             Like many jokes on the subject this was a mail in circulation. The person who has created this sarcastic humour piece deserves kudos.

Advertisements