love forever!!!
forever!!!

साँसों में खुमारी थी
साँसों में इक धड़कन थी
आवाज़ में कुछ जादू था
आवाज़ में कुछ थिरकन थी

वो फूल जैसे हँसती थी
इक चिड़िया दाना चुगति थी…

इतना प्यार उसपर आता है
जब याद उसकी आती है
जैसे प्यासे मन को वो
मीठी जाम पिलाती थी

वो फूल जैसे हँसती थी
इक चिड़िया दाना चुगति थी…

ना जाने किस मोड़ पर
तन्हाई मिलने वाली है
इतना तन्हा मैं तो था
की परछाईं भी सताती थी

वो फूल जैसे हँसती थी
इक चिड़िया दाना चुगति थी…

सबके सुख में खुश हूँ मैं
अपने दुख से भी खुश हूँ मैं
जीने के लिए बस जीता था
की साँसें भी रूलाती थी

वो फूल जैसे हँसती थी
इक चिड़िया दाना चुगति थी…

Advertisements