मैंने एक डायलर टॉंन सुनी:
ज़िदगी गले लगा ले…गुड, वेरी गुड
ज़िंदगी एक लड़की है
क्यूंकी स्त्रिलिंग है…
उसे गले लगाना किसे अच्छा नहीं लगेगा !
ज़िंदगी आगोश में लेले…
पर कोई ज़िंदगी नाम की लड़की नहीं मिल रही…
जो मिल रही है उसे ही गले लगा लू…
एक ज़िंदगी से काम भी तो नहीं चलता
दो-चार ज़िंदगी होनी चाहिए…
बिन ज़िंदगी के आदमी कितना सूना है…
हर वक़्त ज़िंदगी के बारे में सोचता हू…
आँखे बंद रखता हू’ की सपना टूट ना जाए…
सपनों की ज़िंदगी है…ज़िंदगी एक सपना है…
सपनो को जी लो….ज़िंदगी को जी लो

Advertisements